Monday, May 27

उभरती मॉडल Divya Pahuja की हत्या का खौफनाक सच!

Divya Pahuja हत्याकांड दिल्ली में एक सनसational हत्याकांड था जिसने पूरे देश को हिला कर रख दिया था. दिव्या पाहुजा एक 24 साल की दंत चिकित्सक थीं जिनकी 5 फरवरी, 2012 को उनके ही फ्लैट में बेरहमी से हत्या कर दी गई थी.

घटनाक्रम (Ghatnaक्रम) Divya Pahuja

पुलिस के अनुसार, 4 फरवरी की रात दिव्या अपने फ्लैट पर अकेली थीं. उन्होंने अपने फ्लैट का दरवाजा किसी जानने वाले के लिए खोला था जिसने बाद में उनकी हत्या कर दी और फरार हो गया. दिव्या के शव को उनके पिता ने 5 फरवरी को देखा था, जब वह उन्हें खाना देने उनके फ्लैट पर गए थे. दिव्या के पिता को उनके फ्लैट का दरवाजा खुला मिला और अंदर का सामान भी बिखरा हुआ था. उन्होंने यह भी देखा कि दिव्या बेहोश अवस्था में फर्श पर पड़ी थीं.

पुलिस को सूचित किया गया और मौके पर पहुंचकर उन्होंने पाया कि दिव्या का गला घोंटा गया था और उनके शरीर पर चोट के कई निशान थे. प्रारंभिक जांच में, पुलिस को अपार्टमेंट से कुछ भी चोरी होने का पता नहीं चला, जिससे यह स्पष्ट हो गया कि हत्या का मकसद डकैती नहीं था.

जांच (Jaanch)

  • यह मामला दिल्ली पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया. चूंकि अपार्टमेंट से कुछ भी चोरी नहीं हुआ था,
  • इसलिए पुलिस को हत्या के मकसद को समझने में मुश्किल हो रही थी. उन्होंने दिव्या के परिवार,
  • दोस्तों और सहकर्मियों से पूछताछ की, लेकिन कोई ठोस सुराग नहीं मिल सका.

गिरफ्तारी (Giraftaari)

  • हत्या के लगभग एक महीने बाद, दिल्ली पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया.
  • उन्होंने गिरफ्तार किया गया आरोपी विकास ने बताया कि उसकी दिव्या से फेसबुक के जरिए दोस्ती हुई थी
  • और वे कुछ समय के लिए चैटिंग कर रहे थे.
  • विकास ने यह भी बताया कि वह दिव्या से मिलना चाहता था और फरवरी की शुरुआत में दिल्ली आया था.
  • 4 फरवरी की रात, वह दिव्या के फ्लैट पर गया और दोनों के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई,
  • जिसके बाद उसने गुस्से में दिव्या का गला घोंट दिया.

कोर्ट का फैसला (Korta Ka Faisla) Divya Pahuja

  • विकास के खिलाफ हत्या, सबूत मिटाने और दंड प्रक्रिया संहिता की अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था.
  • लंबे चले मुकदमे के बाद, दिल्ली की एक अदालत ने विकास को दोषी ठहराया और उसे फांसी की सजा सुनाई.
  • हालांकि, दिल्ली उच्च न्यायालय ने बाद में फांसी की सजा को उम्रकैद में बदल दिया.

निष्कर्ष (Nishकर्ष)

  • Divya Pahuja हत्याकांड एक ऐसा मामला है जिसने ऑनलाइन दोस्ती के खतरों को उजागर किया है.
  • इस मामले ने लोगों को सोशल मीडिया पर अजनबियों से बातचीत करते समय सतर्क रहने की चेतावनी दी है.
  • यह मामला यह भी बताता है कि दिल्ली पुलिस ने कैसे जांच के जरिए आरोपी को पकड़ने में कामयाबी हासिल की.

read more on SAMACHAR PATRIKA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *