Monday, May 27

Kedarnath Temple: 4 दिनों की यात्रा में एक लाख से भी अधिक श्रद्धालुओं की भीड़।

Kedarnath Temple कैसे पहुंचे

Kedarnath Temple भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित एक प्रमुख हिंदू तीर्थ स्थल है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और हर साल लाखों श्रद्धालुओं द्वारा दौरा किया जाता है। इस पवित्र स्थल तक पहुंचने के कई तरीके हैं, जो इस प्रकार हैं:

हवाई मार्ग से Kedarnath Temple तक कैसे पहुंचे

केदारनाथ का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून का जॉली ग्रांट एयरपोर्ट है। यह हवाई अड्डा केदारनाथ से लगभग 239 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हवाई अड्डे से आपको टैक्सी या बस की सुविधा लेनी होगी जो आपको रुद्रप्रयाग तक पहुंचाएगी। रुद्रप्रयाग से आगे की यात्रा सड़क मार्ग या ट्रेकिंग के माध्यम से करनी होगी।

रेल मार्ग से Kedarnath Temple तक कैसे पहुंचे

  • केदारनाथ का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश रेलवे स्टेशन है।
  • यह रेलवे स्टेशन केदारनाथ से लगभग 216 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
  • ऋषिकेश से बस या टैक्सी के माध्यम से गोरीकुंड तक पहुंच सकते हैं।
  • गोरीकुंड से आगे 16 किलोमीटर की ट्रेकिंग करके केदारनाथ पहुंचा जा सकता है।

सड़क मार्ग से केदारनाथ तक कैसे पहुंचे

यदि आप सड़क मार्ग से यात्रा करना चाहते हैं, तो आपको पहले ऋषिकेश या हरिद्वार पहुंचना होगा। हरिद्वार से केदारनाथ की दूरी लगभग 240 किलोमीटर है। हरिद्वार से आप गोरीकुंड तक बस या टैक्सी से पहुंच सकते हैं। गोरीकुंड से आगे की यात्रा ट्रेकिंग के माध्यम से करनी होगी।

गोरीकुंड से केदारनाथ ट्रेक

गोरीकुंड से केदारनाथ तक का ट्रेक बहुत ही रोमांचक और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है। यह 16 किलोमीटर लंबा ट्रेक है और इसमें पहाड़ी रास्तों, नदियों और झरनों का आनंद लिया जा सकता है। इस ट्रेक के दौरान खाने-पीने और विश्राम के लिए कई छोटे-छोटे स्टॉल और लॉज मिलते हैं।

Kedarnath Temple का निर्माण किसने किया

  • मंदिर का निर्माण पांडवों द्वारा किया गया था,
  • जो महाभारत के प्रमुख पात्र थे।
  • इस मंदिर के निर्माण के पीछे कई पौराणिक कथाएं हैं।
  • ऐसा माना जाता है कि पांडवों ने भगवान शिव की
  • तपस्या कर इस मंदिर का निर्माण कराया था।

Kedarnath Temple का पुनर्निर्माण

वर्तमान में जो केदारनाथ मंदिर है, उसका पुनर्निर्माण 8वीं सदी में आदिगुरु शंकराचार्य ने करवाया था। उन्होंने मंदिर की संरचना को और मजबूत और भव्य बनाया। मंदिर का पुनर्निर्माण हिमालय की कठोर जलवायु और भूकंपों से इसे सुरक्षित रखने के लिए किया गया था।

Kedarnath Temple कितने पुराना है

  • केदारनाथ मंदिर की आयु के बारे में विभिन्न मत हैं,
  • लेकिन सामान्य रूप से यह माना जाता है
  • कि यह मंदिर लगभग 1000 से 1200 वर्ष पुराना है।

पुरातात्विक साक्ष्य

पुरातात्विक साक्ष्यों के अनुसार, इस मंदिर का निर्माण 8वीं सदी में हुआ था, जो इसे लगभग 1200 साल पुराना बनाता है। इसके अलावा, मंदिर की स्थापत्य कला और शिल्पकला से भी इसकी प्राचीनता का पता चलता है।

हरिद्वार से Kedarnath Temple की दूरी

हरिद्वार से केदारनाथ की दूरी लगभग 240 किलोमीटर है। हरिद्वार से गोरीकुंड तक की यात्रा बस या टैक्सी से की जा सकती है।

यात्रा मार्ग

  1. हरिद्वार से ऋषिकेश: हरिद्वार से ऋषिकेश की दूरी लगभग 20 किलोमीटर है। यह दूरी बस या टैक्सी से तय की जा सकती है।
  2. ऋषिकेश से रुद्रप्रयाग: ऋषिकेश से रुद्रप्रयाग की दूरी लगभग 140 किलोमीटर है।
  3. रुद्रप्रयाग से गोरीकुंड: रुद्रप्रयाग से गोरीकुंड की दूरी लगभग 74 किलोमीटर है।
  4. गोरीकुंड से केदारनाथ: गोरीकुंड से केदारनाथ तक का 16 किलोमीटर का ट्रेक है।

यात्रा के दौरान ध्यान रखने योग्य बातें

  • स्वास्थ्य जांच: ट्रेकिंग के दौरान ऊंचाई और कठिन रास्तों के कारण स्वास्थ्य जांच करवाना आवश्यक है।
  • मौसम की जानकारी: यात्रा से पहले मौसम की जानकारी जरूर लें और उसी अनुसार तैयारी करें।
  • प्राथमिक चिकित्सा किट: अपने साथ प्राथमिक चिकित्सा किट जरूर रखें।

read more on SAMACHAR PATRIKA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *