Sunday, May 19

Arvind Kejriwal की गिरफ्तारी के पीछे की साजिश: घोटाला या कुछ और।

Arvind Kejriwal की गिरफ्तारी: क्या Aam Aadmi Party की साख पर असर पड़ेगा?

दिल्ली के मुख्यमंत्री Arvind Kejriwal को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने दिल्ली की शराब नीति से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया है। ED का दावा है कि इस नीति से कुछ लोगों को अनुचित लाभ हुआ, और इसके बदले में आम आदमी पार्टी को कथित रूप से ‘किकबैक’ दिए गए।

सौरभ भारद्वाज का बयान

सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई से पहले सौरभ भारद्वाज ने एक बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि अदालत इस मामले को गंभीरता से ले और यह सुनिश्चित करे कि केजरीवाल को उनके अधिकारों से वंचित नहीं किया जाए। उन्होंने आगे कहा कि केजरीवाल को अपने वकील से मिलने और परिवार के साथ बातचीत करने का अधिकार होना चाहिए।

कोर्ट में सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल की याचिका की सुनवाई के लिए विशेष बेंच का गठन किया है। वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने अदालत के समक्ष याचिका को उल्लेखित किया और बताया कि क्यों केजरीवाल को जमानत दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि केजरीवाल के पास अपनी रक्षा के लिए सभी कानूनी साधनों का उपयोग करने का अधिकार है।

विरोध प्रदर्शन

इस बीच, आम आदमी पार्टी के नेताओं और समर्थकों ने केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। दिल्ली के कैबिनेट मंत्री आतिशी और सौरभ भारद्वाज को पुलिस ने हिरासत में लिया जब वे शांति से प्रदर्शन कर रहे थे। आतिशी ने कहा कि यह “लोकतंत्र की हत्या” है।

भाजपा का दृष्टिकोण

  • भारतीय जनता पार्टी के नेता गौरव भाटिया ने कहा कि केजरीवाल को
  • नैतिक आधार पर मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देना चाहिए।
  • उन्होंने कहा कि केजरीवाल जेल से सरकार नहीं चला सकते
  • और उन्हें दिल्ली के लोगों की जिम्मेदारी उठानी चाहिए।

निष्कर्ष

  • सुप्रीम कोर्ट में अरविंद केजरीवाल की जमानत याचिका
  • की सुनवाई के परिणाम से यह मामला और गहराएगा।
  • आप और भाजपा के बीच राजनीतिक तनाव के इस माहौल में,
  • दिल्ली के लोगों के लिए यह देखना महत्वपूर्ण होगा
  • कि न्यायपालिका इस मामले को कैसे संभालती है और क्या फैसला लेती है।

read more on SAMACHAR PATRIKA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *