Sunday, May 19

क्या Air India ने गलती कर दी? अलविदा बोइंग 747

आखरी उड़ान: Air India के “हवाई महारानी” Boeing 747 को भावभीनी विदाई (Akhiri Udaan: Air India Ke “Hawai Mahrani” Boeing 747 Ko Bhaavbheeni Vidaai)

Boeing 747 आज मुंबई एयरपोर्ट से एयर इंडिया के आखिरी बोइंग 747 विमानों में से एक ने अपनी आखिरी उड़ान भरी। इसे “हवाई महारानी” के नाम से जाना जाता है। विमाननयात्रा के क्षेत्र में ये एक ऐतिहासिक क्षण था, जिसने कई लोगों में पुरानी यादें ताजा कर दीं।

ये विमान, जिसका नाम “आगरा” था, अमेरिका के लिए रवाना हुआ। वहां इसे उसके पुर्जों के लिए अलग-अलग किया जाएगा। हालांकि ये विमान अब उड़ान नहीं भर पाएगा, लेकिन इसकी विरासत आने वाली पीढ़ियों को याद दिलाती रहेगी।

तो आखिर इस विमान का भविष्य क्या है? चलिए विस्तार से जानते हैं।

सेवा का लंबा सफर Boeing 747

एयर इंडिया के बेड़े में बोइंग 747 विमानों का दशकों से महत्वपूर्ण स्थान रहा है। इन्होंने लगभग पांच दशक तक यात्रियों को दुनिया भर की यात्रा कराई है। न सिर्फ व्यावसायिक उड़ानों पर, बल्कि वीवीआईपी यात्राओं और यहां तक कि 2020 में कोरोनावायरस महामारी के शुरुआती दिनों में चीन के वुहान से दो चिकित्सीय निकासी उड़ानों में भी इन विमानों ने अहम भूमिका निभाई।

हालांकि, समय के साथ विमानन प्रौद्योगिकी में बदलाव आया और ज़्यादा ईंधन-कुशल विमान बाज़ार में आ गए। ऐसे में एयर इंडिया ने अपने बेड़े का आधुनिकीकरण करने का फैसला किया।

नए मालिक, नया भविष्य

2022 की शुरुआत में, टाटा समूह ने एयर इंडिया का अधिग्रहण कर लिया। इसके बाद इन बोइंग 747 विमानों को बेचने का फैसला किया गया। इन विमानों को अमेरिका की एक कंपनी एयरसेल ने खरीदा है, जो पुराने विमानों के इंजन और पुर्जों की आपूर्ति करती है।

  • खबरों के अनुसार, इन चार विमानों में से दो को संभवतः मालवाहक विमानों में तब्दील कर दिया जाएगा। वहीं,
  • बाकी बचे दो विमानों को उनके पुर्जों के लिए अलग कर दिया जाएगा। इन पुर्जों का इस्तेमाल ज़रूरी रख-रखाव और मरम्मत के लिए किया जा सकता है।

एक युग का अंत

  • हालांकि ये विमान अब आसमान में उड़ान नहीं भर पाएंगे,
  • लेकिन ये विमाननयात्रा के इतिहास का एक अहम हिस्सा रहेंगे।
  • बोइंग 747 विमानों को उनकी विशालता और डबल-डेकर संरचना के लिए जाना जाता है।
  • ये विमान न सिर्फ यात्रियों को आरामदायक यात्रा का अनुभव देते थे,
  • बल्कि लंबी दूरी की उड़ानों को भी संभव बनाते थे।
  • एयर इंडिया के कर्मचारियों और विमानन के शौकीनों के लिए इस विमान की विदाई एक भावुक क्षण था।
  • मुंबई हवाई अड्डे पर विमान के रवाना होने के समय मौजूद लोगों ने इसे श्रद्धांजलि दी।
  • विमान ने जाते समय एक भावुक “विंग वेव” (wing wave) पैंतरा भी किया,
  • जो विदाई का एक परंपरागत तरीका है।

यादों का सिलसिाला

  • भले ही एयर इंडिया के बेड़े से बोइंग 747 विमान खत्म हो गए हैं,
  • लेकिन ये विमान कई लोगों की यादों में हमेशा बने रहेंगे।
  • ये विमान एक ऐसे युग का प्रतीक हैं,
  • जब हवाई यात्रा एक विलासिता हुआ करती थी
  • और आसमान में इन “हवाई महारानियों” को देखना एक अद्भुत अनुभव होता था।

read more on SAMACHAR PATRIKA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *