Sunday, May 19

Hanuman Jayanti पर ये 5 गलतियां करने से बचें, नहीं तो हो सकता है अशुभ!

Hanuman Jayanti: वीर हनुमान की पूजा का पर्व (Hanuman Jayanti: The Festival of Celebrating the Valiant Hanuman)

Hanuman Jayanti  भगवान हनुमान, भगवान राम के परम भक्त और हिंदू धर्म के सबसे पूजनीय देवताओं में से एक, के जन्मदिन के रूप में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है। यह चैत्र महीने के पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है, जो आमतौर पर अप्रैल या मई के महीने में पड़ता है। इस वर्ष 2024 में, हनुमान जयंती 23 अप्रैल को मनाई जा रही है।

हनुमान जयंती का महत्व (Significance of Hanuman Jayanti)

हHan को हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण दिन माना जाता है। यह दिन भगवान हनुमान के असाधारण गुणों और भक्ति को याद करने का अवसर प्रदान करता है। हनुमान को उनकी अ immense strength असीम शक्ति, unwavering devotion अटूट भक्ति, selflessness निस्वार्थ भाव, intelligence बुद्धि, और immense knowledge अ immense knowledge के लिए जाना जाता है। वह सभी बाधाओं को दूर करने और अपने भक्तों की रक्षा करने वाले माने जाते हैं।

हनुमान जयंती का जश्न विभिन्न तरीकों से किया जाता है। भक्त इस दिन विशेष पूजा करते हैं, हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं, और भजन गाते हैं। कुछ मंदिरों में रात भर जागरण या भजन-कीर्तन का आयोजन किया जाता है। कई स्थानों पर हनुमान जयंती के दिन रक्तदान शिविर भी लगाए जाते हैं क्योंकि हनुमान को उनका बल लंगूर (वानर) से प्राप्त हुआ माना जाता है और लंगूर को हिंदू धर्म में रक्त (blood) से जुड़ा हुआ माना जाता है।

हनुमान जयंती कैसे मनाएं

आप हनुमान जयंती को पारंपरिक तरीके से या अपने अनुसार मना सकते हैं। यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे आप इस विशेष दिन को मना सकते हैं:

  • पूजा: अपने घर के मंदिर में या किसी हनुमान मंदिर में जाकर भगवान हनुमान की पूजा करें। आप उन्हें सिंदूर, चोला (चंदन का लेप), फूल और मिठाई चढ़ा सकते हैं।
  • हनुमान चालीसा का पाठ: हनुमान चालीसा भगवान हनुमान की महिमा का वर्णन करने वाला एक लोकप्रिय भजन है।
  • इस दिन हनुमान चालीसा का पाठ करना शुभ माना जाता है।
  • भजन और कीर्तन: आप अपने घर या किसी मंदिर में भजन और कीर्तन का आयोजन कर सकते हैं।
  • भगवान हनुमान की भक्ति में गाए जाने वाले भजनों को सुनना और गाना इस पर्व को मनाने का एक शानदार तरीका है।
  • उपवास: कुछ भक्त हनुमान जयंती के दिन उपवास रखते हैं।
  • आप अपनी श्रद्धा के अनुसार उपवास रख सकते हैं।

हनुमान जयंती की कहानी

  • हनुमान जयंती भगवान हनुमान के जन्म का उत्सव है।
  • पौराणिक कथाओं के अनुसार, हनुमान का जन्म वायु देव, पवन के देवता,
  • और अंजना नामक एक अप्सरा के पुत्र के रूप में हुआ था।
  • उनके जन्म को लेकर कई अलग-अलग कहानियां हैं,
  • जिनमें से कुछ सबसे लोकप्रिय कहानियां इस प्रकार हैं:
  • पवनपुत्र हनुमान: एक कथा के अनुसार,
  • अंजना ने पुत्र प्राप्ति के लिए वरदान मांगा था।
  • वायुदेव ने उनके गर्भ में वायु रूपी संतान को स्थानांतरित कर दिया था।
  • इस प्रकार, हनुमान को पवनपुत्र या वायुपुत्र कहा जाता है।

 

  • अंजनिputra Hanuman: एक अन्य कथा के अनुसार, हनुमान का जन्म अंजना के पुत्र के रूप में हुआ था।
  • उन्हें देवराज इंद्र द्वारा वज्र (एक दिव्य हथियार) से आहत किया गया था,
  • जिसके कारण उनका शरीर सफेद हो गया था।

Read More on SAMACHAR PATRIKA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *