दुस्साहसः शराब के लिए पैसा नहीं देने पर पशु चिकित्सक पर की फायरिंग, आरोपित को भीड़ ने दबोचा – समाचार पत्रिका

समाचार पत्रिका

Latest Online Breaking News

दुस्साहसः शराब के लिए पैसा नहीं देने पर पशु चिकित्सक पर की फायरिंग, आरोपित को भीड़ ने दबोचा

😊 Please Share This News 😊

दुस्साहसः शराब के लिए पैसा नहीं देने पर पशु चिकित्सक पर की फायरिंग, आरोपित को भीड़ ने दबोचा।

गोरखपुर, समाचार पत्रिका।
गगहा। क्षेत्र के हाटा बाजार रियांव मार्ग पर बुधवार को मनबढों ने शराब के लिए पैसे नहीं देने पर एक पशु चिकित्सक की बेरहमी से पिटाई करने के बाद हत्या की नियति से गोली फायरिंग कर दी। इस दौरान पशु चिकित्सक बाल-बाल बच गए। घटना के बाद जुटी भीड़ ने दौड़ाकर एक आरोपी को दबोच लिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दबोचे गए बदमाश के कब्जे से तमंचा बरामद कर उसे अपनी हिरासत में ले लिया।
गगहा थाना क्षेत्र के श्रीरामपुर गांव निवासी अजीत यादव पुत्र सिंहासन यादव पशु चिकित्सक हैं। दोपहर को हाटा स्थिति अपने भाई के मेडिकल स्टोर से घर लौट रहे थे। गनगरी पुलिया से पहले स्थित घेवरपार मार्ग पर बाईक सवार दो युवकों ने अजीत को रोका और शराब के लिए पैसा मांगने लगे। अजीत ने कहा कि शराब के लिए पैसा नहीं देंगे। चलो फुल्की खालो। पैसा देने से मना करने पर दोनों युवक उलझ गए और मारपीट शुरू कर दी। इसी दौरान एक युवक तमंचा निकाल कर अजीत पर फायरिंग कर दी। मारपीट की सूचना पाकर अजीत का भाई अमित अन्य लोगों के साथ मौके पर पहुंचा तभी आरोपियों ने दुसरी गोली चला दी। लेकिन संयोग से गोली किसी को लगी नहीं। भीड़ जुटने पर एक आरोपी बाईक से भाग निकला जबकि एक को अमित व अजीत सहित अन्य लोगों ने तमंचे के साथ खेत में दौड़ाकर पकड़ लिया। और पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंचकर आरोपी से पूछताछ कर रही थी इसी दौरान आरोपी युवक का भाई अन्य साथियों के साथ मौके पर पहुंचा, और पुलिस की मौजूदगी में हवाई फायरिंग करते हुए भाग निकला। पुलिस पकड़े युवक को थाने लाकर पुछताछ कर रही है। आरोपी की पहचान अहिरौली गांव निवासी भोलू पुत्र रामानंद के रुप में हुई है। बताया जाता है कि आरोपी का भाई थाने का हिस्ट्रीशीटर है। जो मौके से भाग निकला। इस संबंध में थाना प्रभारी विनोद अग्निहोत्री ने कहा कि एक युवक को पकड़ा गया है। अन्य आरोपी की तलाश की जा रही है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

error: Content is protected !!