प्रभारी मंत्री के चौपाल से गायब रही शिक्षिका, डीएम ने किया निलंबित – समाचार पत्रिका

समाचार पत्रिका

Latest Online Breaking News

प्रभारी मंत्री के चौपाल से गायब रही शिक्षिका, डीएम ने किया निलंबित

😊 Please Share This News 😊

प्रभारी मंत्री के चौपाल से गायब रही शिक्षिका, डीएम ने किया निलंबित।

चौरीचौरा, गोरखपुर।

समाचार पत्रिका।

विकास खंड सरदारनगर के ग्राम पंचायत गौनर के पंचायत भवन पर शुक्रवार की रात चौपाल में प्रभारी मंत्री धर्मपाल सिंह ने पहले विभागवार अधिकारियों की हाजिरी ली। मौके पर उपस्थित न रहने के चलते डीएम ने पूर्व माध्यमिक विद्यालय की शिक्षिका सुनीता को निलंबित और खंड शिक्षा अधिकारी राकेश पांडेय को यहां से हटाने का निर्देश दिया। इसी तरह एएनएम सुनीता पासवान, अंजू यादव, अंजू सिंह का एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने ने सफाई, पानी, आवास, हैंडपम्प, पशु टीकाकरण, उज्ज्वला गैस, पुलिस विभाग समेत अन्य विभागों की समीक्षा की। सरकार की मंशा है कि चलो गांव की ओर गांव में अब मंत्री, डीएम, एसएसपी समेत अन्य अधिकारी गांव में आएंगे और गांव की विकास के लिए कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि गांव में खामियां है जिस पर अधिकारियों ने पर्दा डाला है। उस खामियों को दूर किया जाएगा। सरकार की मंशा है गांव के बच्चों को अंग्रेजी माध्यम से प्राथमिक विद्यालय में अच्छी शिक्षा दिया जाए। ग्रामीणो की शिकायत पर गांव के जर्जर विधुत तार के जगह केवल तार लगाने जाने का निर्देश दिया और कहा कि गांव के लोग बिधुत बिल समय से भुगतान करे। इस गांव में बिधुल बिल का दो करोड़ से अधिक का बकाया है। प्रधान समेत गांव के लोगो ने कहा कि गांव की जर्जर सड़कें को मरम्मत करने की मांग की। जिस पर मंत्री ने लोक निर्माण विभाग को बरसात से पहले सड़को को मरम्मत करने को कहा। इस दौरान गन्ना विकास मंत्री संजय गंगवार, माध्यमिक शिक्षा मंत्री गुलाबो देवी भी मौजूद रहे।

जिला पंचायत सदस्य को शिकायत करना पड़ा महंगा।

गौनर गांव के पंचायत भवन पर आयोजित प्रभारी मंत्री के रात्रि चौपाल में जिला पंचायत सदस्य राजेन्द्र प्रसाद गुप्ता ने अपने क्षेत्र की सड़कों को लेकर मंत्री से शिकायत किया। लगातार मंच के माइक से बोलने के कारण अधिकारियों को उनकी शिकायत नागवार लग गई। पुलिस ने राजेन्द्र प्रसाद को हिरासत में ले लिया और मंत्री जी के जाने के बाद पुलिस राजेन्द्र गुप्ता को लेकर थाने चली गई।रात 11 बजे पुलिस ने राजेंद्र प्रसाद को थाने से रिहा कर दिया।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

error: Content is protected !!