तालाब की जमीनों पर है अवैध कब्जा तो चलेगा बुल्डोजर – समाचार पत्रिका

समाचार पत्रिका

Latest Online Breaking News

तालाब की जमीनों पर है अवैध कब्जा तो चलेगा बुल्डोजर

😊 Please Share This News 😊

♦तहसील क्षेत्र के 350 से ज्यादा पोखरों को ढूंढने में जुटा तहसील प्रशासन, गांव गांव से मांगी गई रिपोर्ट।

♦नगर पंचायत मुंडेरा बाजार के 19 पोखरों की खोज में लगाए गए तहसीलकर्मी।

गोरखपुर, समाचार पत्रिका।
आर.ए. पाण्डेय।
पोखरों के अस्तित्व और भूगर्भ जल स्तर को बनाये रखने के लिए सरकार द्वारा शुरू किए गए अमृत सरोवर योजना के तहत गांव और नगर पंचायतों में स्थित छोटे बड़े सभी जलाशयों की खोज शुरू कर दी गई है। जिन पोखरों की जमीनों पर अवैध कब्जा किया गया है उन अवैध कब्जों को खाली कराने के लिए तहसील प्रशासन बुल्डोजर चलवाने की तैयारी कर रहा है।
भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में शामिल अमृत सरोवर योजना उन लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन सकती है जिन लोगों ने पोखरा पोखरी की जमीनों पर अवैध कब्जा कर लिया है। इस योजना के तहत लापता और मौजूद पोखरों की खोज की जा रही है। चौरीचौरा तहसील प्रशासन ने भी तहसील क्षेत्र के सभी पोखरों और पोखरियों के बारे में जानकारी जुटाना शुरू कर दिया है। खतौनी में दर्ज आंकड़ों के मुताबिक चौरीचौरा तहसील क्षेत्र में 350 से ज्यादा पोखरे हैं। लेकिन इनमें से ज्यादातर मौके पर विलुप्त हो गए हैं। राजस्व लेखपालों से खतौनी में दर्ज पोखरों की स्थिति और उस पर कब्जा करने वालों की रिपोर्ट मांगी गई है। रिपोर्ट मिलने के बाद उन पोखरियों का सीमांकन किया जाएगा और अवैध कब्जा जमाए लोगों को कब्जा हटाने की नोटिस दी जाएगी। अवैध कब्जा जमाने वालों द्वारा कब्जा न हटाने के बाद तहसील प्रशासन अवैध कब्जे को बुल्डोजर लगाकर हटवाएगा और कब्जा करने वालों से जुर्माना भी वसूल करेगा। तहसील प्रशासन ने इसकी शुरुआत नगर पंचायत मुंडेरा बाजार से किया है। नगर पंचायत में कुल 19 पोखरियां हैं। जिनमे से कई का अस्तित्व ही खत्म हो गया है। एक पोखरे को तो एक व्यक्ति ने अपने नाम से दर्ज करा लिया है। तहसीलकर्मी उन 19 पोखरियों को ढूंढकर सीमांकन करने में जुटे हैं। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने बहुत पहले ही निर्देश दिया था कि पोखरों पर हुए अवैध कब्जों को किसी भी हालत में खाली कराकर उनके अस्तित्व को पुनर्जीवित किया जाए। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का ठीक ढंग से पालन नहीं किया गया। अब केंद्र व प्रदेश सरकार इन जलाशयों को संरक्षित करने के लिए अमृत सरोवर योजना लेकर आई है तो पोखरों को नया जीवन मिलने की पूरी संभावना दिखने लगी है।

एसडीएम चौरीचौरा रजत वर्मा ने कही ये बात:

तहसील के रिकार्ड में दर्ज पोखरों की संख्या और उनकी वर्तमान स्थिति के बारे में सभी लेखपालों से रिपोर्ट मांगी गई है। तहसील क्षेत्र के बहुत से पोखरों की जमीनों पर अवैध कब्जा करने की रिपोर्ट मिल रहा है। अवैध रूप से कब्जा करने वाले अपना कब्जा हटा लें। अन्यथा तहसील प्रशासन कार्रवाई करेगा तो जुर्माना भी वसूल करेगा।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

error: Content is protected !!