दो दिवसीय इंटर स्टेट कराटे चैंपियनशिप में मार्शल आर्ट योद्धाओं ने दिखाया दमखम, चार स्वर्ण दो रजत और 9 कांस्य पदक जीते, खेल प्रेमियों ने किया स्वागत। – समाचार पत्रिका

समाचार पत्रिका

Latest Online Breaking News

दो दिवसीय इंटर स्टेट कराटे चैंपियनशिप में मार्शल आर्ट योद्धाओं ने दिखाया दमखम, चार स्वर्ण दो रजत और 9 कांस्य पदक जीते, खेल प्रेमियों ने किया स्वागत।

😊 Please Share This News 😊

समाचार पत्रिका गोरखपुर
उत्तराखंड के उधम सिंह नगर में आयोजित दो दिवसीय सिकाई इंटर स्टेट कराटे डू चैंपियनशिप 2021मे प्रतिभाग कर योद्धा मार्शल आर्ट्स समिति के मार्शल आर्ट योद्धाओं ने अपना दमखम दिखाते हुए 15 पदक हासिल किए।चार स्वर्ण दो रजत और 9 कांस्य पदक जीतकर योद्धाओं ने भारतीय शौर्य कला का परचम लहराया। टीम का नेतृत्व योद्धा मार्शल आर्ट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्याम किशुन कर रहे थे। बृहस्पतिवार को गोरखपुर लौटने पर खेल प्रेमियों ने मार्शल आर्ट योद्धाओं का जोरदार स्वागत किया।
सिकाई कराटे इंडिया ऑर्गेनाइजेशन द्वारा 5 व6 अक्टूबर को दो दिवसीय इंटर स्टेट चैंपियनशिप उधम सिंह नगर के जीजीआईसी बाजपुर में आयोजित हुई,इसमें देश के विभिन्न राज्यों से 25 टीमों के 250 खिलाड़ियों ने प्रतिभाग किया। उत्तर प्रदेश से भारतीय शौर्य कला का प्रतिनिधित्व योद्धा मार्शल आर्ट्स ने किया।फाइट व काता की इस प्रतियोगिता मे नैनीताल की टीम विनर रही और योद्धा मार्शल आर्ट्स की टीम रनर। प्रतियोगिता में प्रतिभाग कर रहे योद्धा मार्शल आर्ट्स समिति के 15 खिलाड़ियों ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए 15 मेडल हासिल किया। फाइट प्रतियोगिता में अनुप्रिया आनंद एवं रोशन ने स्वर्ण पदक, शांति साहनी, कनक लता मिश्रा, अमीषा राजभर, सती वर्मा, आदित्य सिंह, रितेश सिंह एवं मनीष पासवान ने कांस्य पदक जीता। कांता प्रतियोगिता में शांति साहनी व शक्ति शर्मा ने स्वर्ण पदक तथा अनुप्रिया आनंद, अनीशा राजभर ने रजत पदक, कनक लता मिश्रा एवं मदन राजभर ने कांस्य पदक हासिल किया। टीम कोच की भूमिका में श्याम किशुन एवं टीम मैनेजर भोला शंकर साहनी थे। बृहस्पतिवार को गोरखपुर लौटने पर बसारतपुर स्थित योद्धा मार्शल आर्ट समिति के कार्यालय में इस ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए मार्शल आर्ट योद्धाओं का खेल प्रेमियों ने जोरदार स्वागत किया। खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए योद्धा मार्शल आर्ट समिति के अध्यक्ष श्याम किशुन ने बताया कि वर्ल्ड मार्शल आर्ट की जननी कहे जाने वाली भारतीय शौर्य कला जो विलुप्त होने के कगार पर पहुंच गई थी एक बार पुनः इसका पुनरोत्थान शुरू हो गया है। आने वाले दिनों में भारत समेत पूरी दुनिया में भारतीय शौर्य कला अपना लोहा मनवा कर ही रहेगी।
विजई प्रतिभागियों को पूर्व महापौर डॉक्टर सत्या पांडे, पर्यावरण कार्यकर्ता संतोष मणि त्रिपाठी, शिक्षाविद डॉ संजयन त्रिपाठी, पूर्व पार्षद अरविंद चौरसिया,प्रसार भारती के पूर्व सहायक निदेशक डॉ तहसीन अब्बासी, डॉक्टर यू एन पांडे, मॉर्निंग वॉकर एसोसिएशन के अध्यक्ष जमशेद ज़िद्दी, रघुनंदन शुक्ला, रीना जयसवाल वरिष्ठ पत्रकार धर्मेंद्र कुमार पांडे विशाल सिंह चंद्र प्रकाश मणि त्रिपाठी आदि अनेकों लोगों ने बधाई देते हुए भारतीय शौर्य कला और इस कला के खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य की कामना की।

 

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

error: Content is protected !!