उत्तर प्रदेश: उन्नाव पुलिस की पिटाई से सब्जी व्यवसायी की मौत, आक्रोशित भीड़ ने किया चक्का जाम, किया विरोध-प्रदर्शन – समाचार पत्रिका

समाचार पत्रिका

Latest Online Breaking News

उत्तर प्रदेश: उन्नाव पुलिस की पिटाई से सब्जी व्यवसायी की मौत, आक्रोशित भीड़ ने किया चक्का जाम, किया विरोध-प्रदर्शन

😊 Please Share This News 😊

नीरज, उन्नाव

समाचार पत्रिका, ब्यूरो

उन्नाव पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया है। लॉकडाउन का पालन कराने को लेकर बांगरमऊ कोतवाली पुलिस ने शुक्रवार को एक सब्जी व्यवसायी को थाने लेजाकर इस कदर पिटाई की कि किशोर की अस्पताल में मौत हो गई। घटना की जानकारी आम होते ही आक्रोशित भीड़ ने विरोध-प्रदर्शन करते हुए उन्नाव-हरदोई राजमार्ग पर चक्का जाम कर दिया। सूचना पाकर पुलिस-प्रशासन के अफसर मौके पर पहुंच गए। अफसरों ने दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का भरोसा देकर भीड़ का गुस्सा शांत कराया।

बांगरमऊ कोतवाली कस्बा निवासी फैसल ठेले पर सब्जी की दुकान लगाता था। शुक्रवार को भी वह दुकान लगाया था। इस दौरान पुलिस मौके पर पहुंची और लॉकडाउन का उलंघन करने के आरोप में थाने ले गई। परिवारीजनों का आरोप है कि पुलिस ने फैसल की इस कदर निर्ममता से पिटाई कर दी कि उसकी हालत गंभीर हो गई। फैसल की हालत बिगड़ती देख पुलिस ने परिवारीजनों को सूचना देकर इलाज के लिए उसे अस्पताल पहुंचाया। जहां उसकी मौत हो गई। कुछ ही देर में मौत की जानकारी आम होते ही मौके पर बड़ी संख्या में भीड़ इकट्ठा हो गई। थाने का घेराव करने के बाद आक्रोशित भीड़ ने उन्नाव-हरदोई राजमार्ग पर चक्का जाम कर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। सूचना पाकर पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। अधिकारियों के आश्वासन के बाद भीड़ ने चक्का जाम खत्म किया।

बड़ी संख्या में पुलिस और पीएसी तैनात

बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र में तनाव को देखते हुए जिला प्रशासन ने कई थानों की पुलिस के साथ ही पीएसी बल को भी तैनात कर दिया है।

पुलिस के अमानवीयता की हो रही निंदा

पुलिस की पिटाई से फैसल की हुई मौत की हर ओर निंदा हो रही। पुलिस के प्रति लोगों में जबरदस्त गुस्सा देखने को मिल रहा है। लोगों ने बताया कि बांगरमऊ कोतवाली पुलिस अख़्सर इस तरह की हरकत करती है। पुलिस लॉकडाउन के दौरान व्यवसायियों से मोटी रकम लेकर गिनी-चुनी दुकानों को खोलने की इजाजत दे रही है।

 

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

error: Content is protected !!