उत्तर प्रदेश: चित्रकूट जिला जेल में गैंगवार, हत्या और एनकाउंटर का मामला: 5 निलम्बित, नए अधीक्षक एवं जेलर की हुई तैनाती – समाचार पत्रिका

समाचार पत्रिका

Latest Online Breaking News

उत्तर प्रदेश: चित्रकूट जिला जेल में गैंगवार, हत्या और एनकाउंटर का मामला: 5 निलम्बित, नए अधीक्षक एवं जेलर की हुई तैनाती

😊 Please Share This News 😊

नीरज तिवारी, लखनऊ

समाचार पत्रिका, ब्यूरो

यूपी के चित्रकूट जिले की जिला कारागार में शुक्रवार सुबह हुई गैंगवार को लेकर यूपी सरकार सख्त कदम उठाते हुये बड़ी कार्रवाई की है। जेल के अंदर दो बंदियों की हत्या और पुलिस की जवाबी कार्रवाई में शातिर अपराधी अंशू दीक्षित के मारे जाने के प्रकरण में जेल अधिकारियों व कर्मियों की खुलेआम लापरवाही सामने आई है। जिसको लेकर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर चित्रकूट जेल के अधीक्षक एसपी त्रिपाठी व जेलर महेंद्र पाल समेत पांच कर्मियों को निलंबित किया गया है। पुलिस महानिदेशक कारागार आनन्द कुमार ने इस प्रकरण की पुष्टि की है। इसके अलावा अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने जेल अधीक्षक व जेलर के निलंबन के आदेश जारी कर दिए है। वही प्रदेश के चित्रकूट जिला कारागार में नए अधीक्षक व जेलर की तैनाती भी कर दी गई है। अशोक कुमार सागर को जेल अधीक्षक और सीपी त्रिपाठी को जेलर के पद पर नियुक्त कर दिया गया है। जेल में हुई इस जघन्य वारदात में सुरक्षा व्ययवस्था की बहुत बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। इस मामले को लेकर अफसरों का मानना है कि जिला कारागार में पिस्टल किस प्रकार ले जाई गई, इस बात का अभी पूरी तरह से खुलासा नही हो सका है। इस वारदात की न्यायिक जांच कराई जायेगी, इसकी प्रक्रिया तत्काल प्रभाव से शुरू कर दी गई है। इस प्रकरण को लेकर चित्रकूट पुलिस अपनी कार्रवाई करने की पूरी तैयारी में जुट गई है। वह मुकदमा दर्ज करने में लग गई है। इस प्रकरण की पुलिस द्वारा होने वाली विवेचना में सारे रहस्यों से पर्दा हटेगा। इस प्रकरण में निलंबित किए गए कर्मियों में जेल के हेड वार्डर के अलावा सुरक्षा-व्यवस्था में तैनात पीएसी का एक सिपाही भी शामिल है। इस प्रकरण को लेकर पुलिस महानिदेशक जेल आनन्द कुमार ने बताया कि सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है, जो भी सच्चाई होगी उसी के अनुसार कड़ी कार्रवाई होगी। इसमे संलिप्त किसी को भी छोड़ा नही जाएगा। चित्रकूट जिला कारागार में दो बंदियों की हत्या तथा पुलिस की जवाबी फायरिंग में एक कुख्यात की मौत के सनसनीखेज मामले को प्रदेश के मुख्यमंत्री ने बड़ी गंभीरता से लिया है। यूपी सीएम के निर्देश पर इस मामले की जांच के लिए आयुक्त चित्रकूट डीके सिंह, आइजी चित्रकूट के. सत्यनारायण व डीआइजी कारागार मुख्यालय संजीव त्रिपाठी सहित चार लोगों की एक संयुक्त टीम गठित कर तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए गये है। इस सम्पूर्ण मामले में यूपी के सीएम ने डीजी जेल आनन्द कुमार से छह घंटे में घटना की रिपोर्ट मांगी थी। चित्रकूट जिला जेल में शुक्रवार सुबह हुई गैंगवार में कैराना पलायन के मुख्य आरोपी मुकीम काला और पूर्वांचल के माफिया विधायक मुख्तार के रिश्ते के भांजे और गैंग सदस्य मेराज अली की शार्प शूटर अंशु दीक्षित ने हत्या कर दी। हालांकि पुलिस ने हत्यारे अंशु को भी मुठभेड़ में ढेर कर दिया। जिला कारागार में हुई इस गैंगवार में पचास राउंड गोलियां चलीं। यह खेल करीब दो घण्टे तक सुनियोजित तरीके से खेला गया। इस वारदात से जेल में दहशत फैल गई। जेल में बंद अन्य बंदियों के साथ ही जेल के सुरक्षा कर्मी भी दहशत में बैरकों में दुबके रहे। हलाकि पुलिस के पहुंचते ही मोर्चा संभाला गया, और जवाबी फायरिंग हुई तो शातिरों के छक्के छूटे। इस प्रकरण को लेकर एसपी चित्रकूट अंकित मित्तल का कहना था कि जेल में हुई गैंगवार में मुकीम काला और मेराज अली की हत्या अंशु दीक्षित ने कर दी है।जिसे मुठभेड़ में मार गिराया गया है। पुलिस मौके से बरामद समान व असलहे तथा घटना की बारीकी से जांच कर रही है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

error: Content is protected !!