मरीजों के इलाज के प्रति लापरवाह सन हॉस्पिटल के खिलाफ एफआईआर – समाचार पत्रिका

समाचार पत्रिका

Latest Online Breaking News

मरीजों के इलाज के प्रति लापरवाह सन हॉस्पिटल के खिलाफ एफआईआर

😊 Please Share This News 😊

नीरज तिवारी, लखनऊ

समाचार पत्रिका, ब्यूरो

शहर के विभव खण्ड गोमती नगर स्थित सन हॉस्पिटल द्वारा मरीजों के इलाज में लापरवाही बरतने और शासन प्रशासन को गुमराह करने करने मामले में जिला और पुलिस प्रशासन की ओर से विभूति खंड थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया।

बताते चलें कि विगत चार मई को सन हॉस्पिटल द्वारा सोशल मीडिया पर नोटिस पोस्ट की गयी थी। जिसमें सन हॉस्पिटल में भर्ती ऐसे कोविड धनात्मक मरीजों,जोकि आक्सीजन सपोर्ट पर हैं उनके परिजनों को ऑक्सीजन की कमी के चलते दूसरे हॉस्पिटल में शिफ्ट करने के लिए कहा गया था कि प्रारम्भिक जांच व निरीक्षण डीएम के निर्देश पर उप जिलाधिकारी सदर द्वारा की गयी। निरीक्षण में यह पाया गया था कि हॉस्पिटल में भर्ती बीस कोविड धनात्मक ऑक्सीजन सपोर्ट के मरीजों के सापेक्ष हॉस्पिटल में 08 ऑक्सीजनयुक्त जम्बो सिलेण्डर , 02 बी टाईप ऑक्सीजनयुक्त सिलेण्डर व कंसंट्रेटर मौजूद थे।हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी नहीं थी। हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा उक्त नोटिस के माध्यम से दबाव बनाकर अतिरिक्त ऑक्सीजन प्राप्त करने का प्रयास किया जा रहा था । इसके अलावा निरीक्षण में सीसीटीवी फुटेज को देखने से यह तथ्य भी सामने आया था कि हॉस्पिटल के कोविड वार्ड में नॉन कोविड व्यक्तियों को बिना कोविड प्रोटोकॉल का पालन किये अनाधिकृत प्रवेश दिया जा रहा था। उक्त के अतिरिक्त कतिपय अन्य अनियमिततायें भी परिलक्षित हुई थी।जिसके कम में उप जिलाधिकारी सदर द्वारा सन हास्पिटल विभवखण्ड, गोमतीनगर के निदेशक व प्रबंधक को महामारी अधिनियम 1897 और भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 व अन्य सुसंगत धाराओं के तहत नोटिस निर्गत कर 24 घंटे के भीतर जवाब मांगा गया है। आज इस मामले में आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 और 52, महामारी अधिनियम 1897 की धारा 3, भादंसं 1960 की धारा 188 और 269 के तहत थाना विभूति खंड में सन हॉस्पिटल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।

 

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

error: Content is protected !!